• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।
    •   2012 के निगम चुनाव में बीजेपी को मिली थी 142 सीटें।
    •   पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद से बीजेपी प्रत्याशी सबरा मलिका आगे।
    •   दिल्ली: जामा मस्जिद इलाके में बीजेपी प्रत्याशी आशा आगे चल रही हैं।
    •   दिल्ली: तीनों निगमों की 150 सीटों पर बीजेपी को मिली बढ़त।
    •   MCD: 270 में से 197 सीटों के रुझान: 134 पर बीजेपी, 40 पर कांग्रेस.
    •   दिल्ली: शुरुआती रुझानों में बीजेपी नंबर एक, कांग्रेस 2 और AAP तीसरे नंबर की पार्टी।

जानें होलाष्टक में क्यों नहीं करते शुभ काम..

img
जानें होलाष्टक में क्यों नहीं करते शुभ काम.. Ghamansan Editor

इस काल खंड में सभी तरह के शुभ कार्य वर्जित होते हैं।

नई दिल्ली। होलाष्टक शुरू हो चुका है और होली के आठ दिन पूर्व फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी से होलाष्टक लगता है जो पूर्णिमा तक जारी रहता है। इस काल खंड में सभी तरह के शुभ कार्य वर्जित होते हैं। जानिएं क्यों होली से पहले शुभ कार्य वर्जित रहते हैं..

इसके बारे में पुरानी मान्यता है कि भगवान शिव ने कामदेव यानि प्रेम के देवता को फाल्गुन पक्ष की अष्टमी के दिन भस्म किया था। कामदेव की पत्नी रति ने 8 दिनों तक कामदेव को दुबारा जीवित करने के लिए भगवान शिव की अराधना की थी। भगवान शिव ने रति की प्रार्थना स्वीकार की और  कामदेव को पुन: जीवित किया।

भोले के इस निर्णय के बाद रंग खेलकर खुशी मनाई गई थी। एक अन्य कथा के अनुसार हिरण्यकश्यप ने विष्णु के भक्त और अपने बेटे प्रह्लाद को होली के 8 दिन पुर्व से यातनाएं देनी शुरू की थीं। इन आठ दिनों तक प्रह्लाद को कड़ी से कड़ी यातनाएं दीं गई ताकि वो विष्णु की भक्ति छोड़ दें। इसलिए भी इन 8 दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं किया जाता है।

Posts Carousel