• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   रिवर फ्रंट को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे है सीएम योगी
    •   लखनऊ : गोमती रिवर फ्रंट पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ
    •    मणिपुर : पर्यटकों की बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 लोगों की मौत
    •   लखनऊ: आज सुबह 11 बजे सीएम योगी आदित्यनाथ गोमती रिवरफ्रंट का निरीक्षण करेंगे।
    •   मणिपुर: सेनापति जिले में टूरिस्ट बस पलटी, 8 की मौत।
    •   महाराष्ट्र: उस्मानाबाद से सांसद रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में आज शिवसेना ने इस इलाके में बंद का ऐलान किया।
    •   मुरादाबाद: घर के फंक्शन में बीफ इस्तेमाल करने के लिए परिवार ने पुलिस से मांगी मंजूरी, पुलिस ने इनकार किया।
    •   CBFC चेयरपर्सन पहलाज निहलानी और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू आज लॉन्च करेंगे CBFC ऑनलाइन सर्टिफिकेशन।
    •   तमिलनाडु: 3 महिलाओं ने गाड़ी से कोयंबतूर से लंदन की यात्रा शुरू की।
    •   पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी घुसपैठिये को ढेर किया। (ANI)
    •   दिल्ली: देर रात निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी। 12 गंभीर रूप से घायल।
    •   उत्तरप्रदेश : बूचड़खाने बंद होने के विरोध में आज से मांस कारोबारियों की बेमियादी हड़ताल
    •   ईरान ने 15 अमेरिकी कंपनियों पर लगाई पाबंदी
    •   BCCI अधिकारियों के लिए COA ने जारी किए सात सूत्री निर्देश
    •   नजीब मामले में आज छात्रों की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में होगी सुनवाई
    •   पंजाब : गुरदासपुर में BSF जवानों ने एक पाकिस्तानी घुसपैठिए को मार गिराया
    •   तेलंगाना: ऐक्सपायर्ड दवाई खाने से 12 बच्चे बीमार पड़े।
    •   दिल्ली : निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी, 12 लोग घायल
    •   चीन के युनान प्रांत में भूकंप के झटके, 5.1 रही तीव्रता
    •    लखनऊ : सुबह 11 बजे गोमती रिवर फ्रंट जाएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

दिल्ली-मुंबई में वायु प्रदूषण से 2015 में मरे 81 हजार लोग

img
दिल्ली-मुंबई में वायु प्रदूषण से 2015 में मरे 81 हजार लोग Ghamansan Editor

रिसर्चर्स ने हवा में मौजूद पीएम-10 कणों के विश्लेषण से यह रिपोर्ट तैयार की है

मुंबई: वायु प्रदूषण के चलते देश की राजधानी दिल्ली और मुंबई में 2015 में 30 साल से अधिक आयु के 80,665 लोग असमय काल के गाल में समा गए। आईआईटी बॉम्बे की स्टडी के मुताबिक 1995 की तुलना में यह आंकड़ा दोगुना है। यही नहीं देश के इन दो बड़े शहरों में लोगों को एयर पलूशन से हुई बीमारियों और अन्य समस्याओं से निपटने में 70,000 करोड़ रुपये यानी जीडीपी का 0.71 पर्सेंट हिस्सा खर्च करना पड़ा। स्टडी के मुताबिक एयर पलूशन के चलते हेल्थ और प्रॉडक्टिविटी पर लगातार बुरा असर पड़ रहा है। इसके अलावा हर दशक गुजरने के साथ श्वसन तंत्र पर भी वायु प्रदूषण के साथ खतरा बढ़ता जा रहा है।

रिसर्चर्स ने हवा में मौजूद पीएम-10 कणों के विश्लेषण से यह रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट के मुताबिक वाहनों के धुएं, निर्माण कार्य से निकलने वाली धूल और अन्य गतिविधियों के चलते दिल्ली में पीएम-10 कणों का स्तर सबसे अधिक था। दिल्ली में 1995 में एयर पलूशन के चलते 19,716 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 2005 में यह आंकड़ा दोगुने से ज्यादा बढ़कर 48,651 तक पहुंच गया।