• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   दिल्ली : शकरपुर इलाके की झुग्गियों में लगी आग, दमकल की गाडियां मौके पर पहुंची
    •   IAS संजीव कुमार सिन्हा बने BSSC के नए अध्यक्ष
    •   हंसी के नए डोज़ के लिए हो जाइए तैयार, यह कॉमेडियन जुड़ रहे हैं कपिल शर्मा के शो से
    •   ITR फाइल करना 1 अप्रैल से और भी सरल, जानें 5 बड़े बदलाव
    •   अब बचेंगे नहीं कश्मीर के पत्थरबाज, 'तीसरी आंख' से उन पर नजर रखेगी CRPF
    •   पत्रकारों के जींस-टीशर्ट पहनकर अदालत आने पर हाईकोर्ट खफा, पूछा- क्या यह बंबई की संस्कृति है
    •   खुरासान मॉडयूल को कारतूस सप्लाई में गन हाउस मालिक गिरफ्तार
    •   अब जब यूपी में भी बन गई 'सरकार', मुलायम ने भी कहा- 'जय मोदी, जय मोदी'!
    •   मुख्तार अंसारी ने कहा, मनोज सिन्हा करा सकते हैं मेरी हत्या
    •   सीएम आवास में ‌त्रिवेंद्र का गृह प्रवेश, लेक‌िन इस आवास का रहस्य नहीं जानते होंगे आप
    •   बीजेपी को टक्कर: RSS की तरह राष्ट्रीय कांग्रेस स्वयंसेवक संघ का गठन!
    •   नमाज और सूर्य नमस्कार में समानताएं, राजनीति दोनों को एक नहीं होने देती : योगी आदित्यनाथ
    •   फिर मुसीबत में फंसे अरविंद केजरीवाल, LG ने AAP से 30 दिन में 97 करोड़ वसूलने के आदेश दिए, पढ़ें
    •   GST को लोकसभा की मंजूरी, देश के टैक्स सिस्टम में आएंगे ये 10 बड़े बदलाव
    •   महोबा के पास दो हिस्सों में बंट गई महाकौशल एक्सप्रेस, 22 यात्री हुए घायल
    •   कोलकाता: हो चि मिन सरानी में आज सुबह होटेल में आग, 2 की मौत। फिलहाल आग नियंत्रण में।
    •   उत्तर प्रदेश: 54 सेंटर पर परीक्षा निरस्त हुई, 57 सेंटर पर परीक्षा रोकी गई।
    •   झारखंड: 72 घंटे का अल्टीमेटम खत्म होने पर रांची में कई बूचड़खाने बंद।
    •   नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भारत के आर्मी चीफ को नेपाली सेना के जनरल का पद दिया।
    •   नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भारत के आर्मी चीफ को नेपाली सेना के जनरल का पद दिया।

मकर संक्रांत‌ि पर है ये दुर्लभ संयोग, इन राशियों पर होगा इसका प्रभाव

img
मकर संक्रांत‌ि पर है ये दुर्लभ संयोग, इन राशियों पर होगा इसका प्रभाव Ghamansan Editor

साल की 12 संक्रांत‌ियों में से मकर संक्रांत‌ि का सबसे ज्यादा महत्व है

साल की 12 संक्रांत‌ियों में से मकर संक्रांत‌ि का सबसे ज्यादा महत्व है क्योंक‌ि इस द‌िन सूर्य देव मकर राश‌ि में आते हैं और इसके साथ देवताओं का द‌िन शुरु हो जाता है। इसल‌िए मकर संक्रांत‌ि के द‌िन स्नान, दान और पूजन का बड़ा ही महत्व है। लेक‌िन इन सबसे ज्यादा महत्व है सूर्य देव का अपने पुत्र शन‌ि के घर में आना। इस साल मकर संक्रांत‌ि पर कुछ ऐसा संयोग बना है ज‌िससे सूर्य और शन‌ि दोनों को एक साथ खुश क‌िया जा सकता है और यह ऐसा संयोग है जो कई वर्षों के बाद बना है।

दरअसल इस साल मकर संक्रांत‌ि 14 जनवरी को है क्योंक‌ि इस द‌िन सूर्य देव सुबह 7 बजकर 38 म‌िनट पर मकर राश‌ि में प्रवेश कर रहे हैं। संयोग की बात है क‌ि इस द‌िन शन‌िवार का द‌‌िन है। शन‌िवार के द‌िन मकर संक्रांत‌ि का होना एक दुर्लभ संयोग है।

ज्योत‌िषशास्त्र में शन‌ि महाराज को मकर और कुंभ राश‌ि का स्वामी बताया गया है। ऐसे में शन‌िवार के द‌िन शन‌ि की राश‌ि में सूर्य का आगमन शन‌ि महाराज को अनुकूल और शुभ बनाने के ल‌िए बहुत ही अच्छा रहेगा। इस साल 26 जनवरी से मकर राश‌ि वालों की साढ़ेसाती भी शुरु होने वाली है ऐसे में इनके ल‌िए शन‌ि को खुश करने का यह बहुत ही अच्छा मौका है। मकर राश‌ि के अलावा इस साल तुला, वृश्च‌िक, धनु राश‌ि वालों की भी साढ़ेसाती रहेगी और मेष, वृष, स‌िंह एवं कन्या राश‌ि वालों को ढैय्या लगेगी। ऐसे में इन आठों राश‌ि वालों को इस मकर संक्रांत‌ि के मौके पर शन‌ि महाराज को खुश करने के ल‌िए कुछ आसान से उपाय जरूर करने चाह‌िए। ज‌िनकी शन‌ि की दशा चल रही है उन्हें भी यह उपाय करना चाह‌िए। मकर संक्रांत‌ि के द‌िन उड़द दाल में ख‌िचड़ी बनाकर दान करें और स्वयं भी भोजन करें।

शास्त्रों के अनुसार उत्तरायन देवताओं का दिन, तो दक्षिणायन देवताओं की रात्रि होती है। यह समय दान के लिए विशेष महत्व रखता है। इस समय पवित्र नदियों में किया गया स्नान सभी पापों से मुक्ति दिलवाने वाला.होता है।

सूर्य जब उत्तरायन का होता है,उस समय किए गए समस्त शुभ कार्य विशेष लाभ देने वाले माने जाते हैं। यही वजह है कि जनवरी से लेकर जून के मध्य तक सूर्य उत्तरायन होता है, उस समय शुभ कार्यों के लिएके लिए मुहूर्त अधिक होते हैं।

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार संक्रांति का अर्थ होता है सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में जाना। अत: वह राशि जिसमें सूर्य प्रवेश करता है, संक्रान्ति की संज्ञा से विख्यात है। 14 जनवरी के दिन या इसके आसपास सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं इसलिए इसे मकर संक्रांति कहा जाता है। मकर संक्रांति के दिन दान-पुण्य करने का विधान है, मान्यता है कि ऐसा करने से पितर प्रसन्न होते हैं और मनुष्य के पुण्य-कर्मों में वृद्धि होती है।

हिन्दू धर्म के अनुसार संसार के दिखाए देने वाले देवों में से एक भगवान सूर्य की गति इस दिन उत्तरायण हो जाती है। मान्यता है कि सूर्य की दक्षिणायन गति नकारात्मकता का प्रतीक है और उत्तरायण गति सकारात्मकता का। गीता में यह बात कही गई है कि कि जो व्यक्ति उत्तरायण में शरीर का त्याग करता है, उसे मोक्ष प्राप्त होता है।

मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी भागीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा उनसे मिली थीं। इसके अलावा महाभारत काल के भीष्म पितामह ने भी अपना देह त्यागने के लिए मकर संक्रांति के पावन दिन का ही चयन किया था। आध्यात्मिक महत्व होने के साथ इस पर्व को लोग प्रकृति से जोड़कर भी देखते हैं जहां रोशनी और ऊर्जा देने वाले भगवान सूर्य देव की पूजा होती है।