• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   IAS संजीव कुमार सिन्हा बने BSSC के नए अध्यक्ष
    •   हंसी के नए डोज़ के लिए हो जाइए तैयार, यह कॉमेडियन जुड़ रहे हैं कपिल शर्मा के शो से
    •   ITR फाइल करना 1 अप्रैल से और भी सरल, जानें 5 बड़े बदलाव
    •   अब बचेंगे नहीं कश्मीर के पत्थरबाज, 'तीसरी आंख' से उन पर नजर रखेगी CRPF
    •   पत्रकारों के जींस-टीशर्ट पहनकर अदालत आने पर हाईकोर्ट खफा, पूछा- क्या यह बंबई की संस्कृति है
    •   खुरासान मॉडयूल को कारतूस सप्लाई में गन हाउस मालिक गिरफ्तार
    •   अब जब यूपी में भी बन गई 'सरकार', मुलायम ने भी कहा- 'जय मोदी, जय मोदी'!
    •   मुख्तार अंसारी ने कहा, मनोज सिन्हा करा सकते हैं मेरी हत्या
    •   सीएम आवास में ‌त्रिवेंद्र का गृह प्रवेश, लेक‌िन इस आवास का रहस्य नहीं जानते होंगे आप
    •   बीजेपी को टक्कर: RSS की तरह राष्ट्रीय कांग्रेस स्वयंसेवक संघ का गठन!
    •   नमाज और सूर्य नमस्कार में समानताएं, राजनीति दोनों को एक नहीं होने देती : योगी आदित्यनाथ
    •   फिर मुसीबत में फंसे अरविंद केजरीवाल, LG ने AAP से 30 दिन में 97 करोड़ वसूलने के आदेश दिए, पढ़ें
    •   GST को लोकसभा की मंजूरी, देश के टैक्स सिस्टम में आएंगे ये 10 बड़े बदलाव
    •   महोबा के पास दो हिस्सों में बंट गई महाकौशल एक्सप्रेस, 22 यात्री हुए घायल
    •   कोलकाता: हो चि मिन सरानी में आज सुबह होटेल में आग, 2 की मौत। फिलहाल आग नियंत्रण में।
    •   उत्तर प्रदेश: 54 सेंटर पर परीक्षा निरस्त हुई, 57 सेंटर पर परीक्षा रोकी गई।
    •   झारखंड: 72 घंटे का अल्टीमेटम खत्म होने पर रांची में कई बूचड़खाने बंद।
    •   नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भारत के आर्मी चीफ को नेपाली सेना के जनरल का पद दिया।
    •   नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भारत के आर्मी चीफ को नेपाली सेना के जनरल का पद दिया।
    •   होटल के सभी कमरों को खाली करवाया गया है

यहां जमीन पर नहीं पेड़ों पर रहते हैं लोग...

img
यहां जमीन पर नहीं पेड़ों पर रहते हैं लोग... Ghamansan Editor

झारखंड की राजधानी रांची के पास एक गांव में लोग जमीन की बजाए पेड़ों पर रहने को मजबूर हैं

रांची। झारखंड की राजधानी रांची के पास एक गांव में लोग जमीन की बजाए पेड़ों पर रहने को मजबूर हैं। इसकी वजह सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल यहां हाथियों ने पूरे का पूरे गांव की फसलें तबाह कर दी है। उनके घर बर्बाद कर दिए हैं। ऐसे में पूरा गांव अपनी जमीन छोड़़ पेड़ों पर रह रहे हैं।

रांची में 45 किलोमीटर दूर बुंडु गांव के लोहराटोला में रहने वाले 15 परिवारों ने अपनी जान चाने के लिए पेड़ों पर अपना घर बनाया है। खुद को हाथियों से बचाने के लिए ये लोग पेड़ों पर सोते हैं। हाथियों के एक झुंड ने पिछले साल उनके घरों को बर्बाद कर दिया था। पिछले कुछ सालों में 154 हाथियों की मौत हो चुकी है।

विशेषज्ञों के अनुसार हाथियों के आने-जाने के रास्ते पर लोगों ने घर बना लिए हैं। इसी कारण हाथी गुस्से में इंसानी बस्ती बर्बाद कर रहे हैं। झारखंड के वन व पर्यावरण सचिव सुखदेव सिंह ने कहा हम लोग पेड़ों पर रहने वाले परिवारों को हर संभव मदद के लिए तत्काल एक वरिष्ठ अधिकारियों की टीम भेजेंगे। रांची-जमशेदपुर राष्ट्रीय राजमार्ग से यात्रा करने वाले लोगों के बीच हाथियों के झुंड ने डर पैदा कर दिया है। हाथियों के इधर-उधर भटकने के कारण राजमार्ग कई घंटे तक जाम रहता है।

गौरतलब है कि झारखंड हाथियों के उत्पात की तबाही से जूझ रहा है। इन हाथियों का झुंड खड़ी फसलों और घरों को बर्बाद कर लोगों को भी मार डालते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार साल 2000 के नवंबर में बिहार से अलग राज्य झारखंड के गठन के बाद यहां अब तक हाथियों के उत्पात की वजह से 1000 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।