• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   रिवर फ्रंट को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे है सीएम योगी
    •   लखनऊ : गोमती रिवर फ्रंट पर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ
    •    मणिपुर : पर्यटकों की बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 लोगों की मौत
    •   लखनऊ: आज सुबह 11 बजे सीएम योगी आदित्यनाथ गोमती रिवरफ्रंट का निरीक्षण करेंगे।
    •   मणिपुर: सेनापति जिले में टूरिस्ट बस पलटी, 8 की मौत।
    •   महाराष्ट्र: उस्मानाबाद से सांसद रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में आज शिवसेना ने इस इलाके में बंद का ऐलान किया।
    •   मुरादाबाद: घर के फंक्शन में बीफ इस्तेमाल करने के लिए परिवार ने पुलिस से मांगी मंजूरी, पुलिस ने इनकार किया।
    •   CBFC चेयरपर्सन पहलाज निहलानी और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू आज लॉन्च करेंगे CBFC ऑनलाइन सर्टिफिकेशन।
    •   तमिलनाडु: 3 महिलाओं ने गाड़ी से कोयंबतूर से लंदन की यात्रा शुरू की।
    •   पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी घुसपैठिये को ढेर किया। (ANI)
    •   दिल्ली: देर रात निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी। 12 गंभीर रूप से घायल।
    •   उत्तरप्रदेश : बूचड़खाने बंद होने के विरोध में आज से मांस कारोबारियों की बेमियादी हड़ताल
    •   ईरान ने 15 अमेरिकी कंपनियों पर लगाई पाबंदी
    •   BCCI अधिकारियों के लिए COA ने जारी किए सात सूत्री निर्देश
    •   नजीब मामले में आज छात्रों की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में होगी सुनवाई
    •   पंजाब : गुरदासपुर में BSF जवानों ने एक पाकिस्तानी घुसपैठिए को मार गिराया
    •   तेलंगाना: ऐक्सपायर्ड दवाई खाने से 12 बच्चे बीमार पड़े।
    •   दिल्ली : निरंकारी कॉलोनी के पास बस पलटी, 12 लोग घायल
    •   चीन के युनान प्रांत में भूकंप के झटके, 5.1 रही तीव्रता
    •    लखनऊ : सुबह 11 बजे गोमती रिवर फ्रंट जाएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

SC ने माइक्रोसाफ्ट, गूगल, फेसबुक को भेजा नोटिस

img
SC ने माइक्रोसाफ्ट, गूगल, फेसबुक को भेजा नोटिस Ghamansan Editor

इन सभी को अगले साल नौ जनवरी तक नोटिस का जवाब देना है।

नई दिल्ली। सोशल नेटवर्किंग साइट पर साइबर क्राइम और यौन अपराध के वीडियो शेयर करने पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दायर याचिका पर आज गूगल, माइक्रोसाफ्ट, याहू और फेसबुक से जवाब तलब किए। न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और न्यायमूर्ति उदय यू ललित की पीठ ने इन कंपनियों को नोटिस जारी किये। इन सभी को अगले साल नौ जनवरी तक नोटिस का जवाब देना है।

गैर सरकारी संगठन प्रज्वला की ओर से वकील अपर्णा भट ने न्यायालय में कहा कि बलात्कार के वीडियो बनाने के बाद इन्हें सोशल नेटवर्किंग साइट पर पोस्ट किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में इंटरनेट कंपनियों को इस तरह के साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिये उचित कदम उठाने चाहिए।

केन्द्र की ओर से अतिरिक्त सालिसीटर जनरल मनिन्दर सिंह ने न्यायालय को इस संबंध में गृह मंत्रालय और केन्द्रीय जांच ब्यूरो द्वारा किए गये उपायों की जानकारी दी। जांच ब्यूरो ही साइबर अपराध के लिए नोडल एजेन्सी है। उन्होंने कहा कि यौन अपराधियों के नाम सार्वजनिक करने के सवाल पर भारत और विदेशों में बहस जारी है और इस संबंध में लिए जाने वाले निर्णय पर अमल किया जाएगा।

इस पर पीठ ने कहा कि यदि यौन अपराधियों के नाम सार्वजनिक किए जाने हैं तो ऐसा मामला दर्ज करने के बाद नहीं बल्कि सिर्फ इस अपराध के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद ही होना चाहिए क्योंकि अगर यह व्यक्ति बाद में बरी हो जाता है तो भी नाम सार्वजनिक हो जाने पर उसकी छवि खराब हो जाएगी।