• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   OBC के लिए मोदी सरकार का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग की जगह बनेगा नया आयोग
    •   बस्तरः जगदलपुर इलाके में भगवती मिल में लगी आग। मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियां, स्थिति नियंत्रण में।
    •   कर्नाटकः मांड्या की सारा को MBA के लिए नहीं मिला लोन। पीएम को लिखा पत्र तो मिली मदद।
    •   महाराष्ट्र: ठाणें में पुलिस से बचने के लिए गैरकानूनी शराब कारोबारियों ने कच्चा माल नदी में डाला,सैकड़ों मछलिया
    •   जम्मू-कश्मीरः बारामुला में सेना भर्ती में आए बड़ी संख्या में कश्मीरी।
    •   PM मोदी ने ट्वीट करके कहा है कि आतंकवाद से लड़ने में भारत यूके के साथ खड़ा है।
    •   प्रधानमंत्री मोदी ने लंदन आतंकी हमले पर दुख जताया है। उन्होंने कहा, 'पीड़ितों के परिवार के साथ हमारी दुआएं हैं
    •   आज सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई होगी।
    •   लंदन के लोग हमेशा की तरह बस और ट्रेनों में सफर करेंगे- टरीजा मे
    •   लंदन को कुछ नहीं होगा। ये महान शहर रोज़ की तरह फिर जागेगा- टरीजा मे
    •   हम लोग ऐसे हमलों से डरने वाले नहीं हैं: टरीजा मे
    •   लंदन अटैक: पुलिस ने अब तक केवल एक हमलावर के होने की बात कही।
    •   लंदन अटैक: पूरे शहर में अतिरिक्त सेना और पुलिसकर्मी (बिना हथियार के) तैनात किए गए।
    •   लंदन के लोग आतंकवाद से कभी नहीं दबेंगे- मेयर, लंदन
    •   लंदन अटैक: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए- 020 8629 5950 और 020 7632 3035
    •   लंदन अटैक: विदेश मंंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, लंदन स्थित इंडियन हाई कमिशन सभी भारतीयों की मदद करेगा।
    •   प्रधानमंत्री टरीजा मे कुछ ही घंटों में आपातकाल मीटिंग करेंगी- मीडिया रिपोर्ट
    •   लंदन अटैक: हमलावर और एक पुलिस अधिकारी समेत चार लोगों की मौत। 20 लोग घायल- पुलिस
    •   सुनील ग्रोवर के बाद 'चंदू चायवाले' और 'नानी' ने भी कपिल शर्मा के शो का बायकॉट किया
    •   सबसे ज़्यादा टैक्स देने वाले एक्टर बने सलमान ख़ान, शाह रुख़, अमिताभ टॉप 10 की लिस्ट से गायब

महंगा पड़ सकता है बच्चों को जबरन खिलाना

img
महंगा पड़ सकता है बच्चों को जबरन खिलाना Ghamansan Editor

यह जानने के लिए हमने उनकी शारीरिक गतिविधियों,टेलीविजन टाइम तथा भूख पर ध्यान केंद्रित किया।

न्यूयॉर्क:  अपने बच्चों को ठूंस-ठूंस कर खिलाने वाले माता-पिता सावधान हो जाएं, क्योंकि एक शोध में यह बात सामने आई है कि ऐसा करने से बच्चे का वजन बेवजह बढ़ जाता है, जो उनके स्वास्थ्य के लिए हानिप्रद है। खाने के सामान्य व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए यह जरूरी है कि बच्चे खुद तय करें कि वह कितना खाना चाहते हैं।
अध्ययन के मुताबिक, यदि बच्चों को प्लेट में बचा एक-एक दाना खाने पर जोर दिया जाता है, तो वे अपने शरीर के संकेतों को समझना बंद कर देते हैं और तब तक खाते हैं, जब तक उनके माता-पिता खुश न हो जाएं। नार्वे युनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में सहायक प्रोफेसर सिल्जे स्टेनस्बेक ने कहा, कुछ बच्चों का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) अन्य की तुलना में क्यों बढ़ता है, यह जानने के लिए हमने उनकी शारीरिक गतिविधियों,टेलीविजन टाइम तथा भूख पर ध्यान केंद्रित किया।

स्टेंसबेक ने कहा, हमारे अध्ययन में यह बात सामने आई कि उन बच्चों के बीएमआई में ज्यादा वृद्धि होती है, जिनमें भोजन उनके खाने के स्वभाव को प्रभावित करता है। वे कितना खाते हैं यह भूख के हिसाब से तय नहीं होता, बल्कि खाने को देखकर तथा उसके गंध से तय होता है। यह शोध दीर्घकालीन अध्ययन का हिस्सा है, जो कई वर्षो तक बच्चों के मनोवैज्ञानिक तथा मनो-सामाजिक विकास पर अध्ययन करता है। यह अध्ययन पत्रिका 'पीडियाट्रिक सायकोलॉजी' में प्रकाशित हुआ है।

Posts Carousel