CJI पर लगे यौन उत्पीड़न का मामला, वकील उत्सव के दावों पर कल होगी सुनवाई | CJI ‘Sexual Harassment Case’

0
15
supreme court

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पर लगे यौन उत्पीडन के आरोप के मामले में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। वकील उत्सव बैंस ने सीलबंद लिफाफे में कोर्ट में सीसीटीवी फुटेज सौंपी है। वकील बैंस ने बेंच से कहा कि इस साजिश के पीछे देश के बड़े स का हाथ हो सकता है। उन्होंने इस पूरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की है। मामले की अगली सुनवाई 25 अप्रैल को होगी।

बैंस ने कहा कि, “मेरे पास सीसीटीवी फुटेज है, जो असली सबूत है। मैं इसे कोर्ट में सौंप रहा हूं। आरोपी-मास्टरमाइंड बेहद ताकतवर है।” कोर्ट ने उत्सव बैंस को सुरक्षा देने को कहा है। गौरतलब है कि उत्सव बैंस ने दावा किया है कि सीजेआई को एक साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। उन्होंने फेसबुक पोस्ट के जरिए इस साजिश के बारे में विस्तार से बताया है।

बुधवार को सुनवाई पूरी होने के बाद स्पेशल बेंच ने कहा कि उत्सव बैंस द्वारा दी गई जानकारी को सीलबंद लिफाफे में रखा जाना चाहिए और गोपनीयता बनाए रखना चाहिए। यह मामला CJI को यौन उत्पीडन के मामले में आरोपित करने की साजिश के संबंध में है। बेंच ने कहा कि हमने हलफनामे को निदेशक सीबीआई, निदेशक आईबी और पुलिस कमिश्नर के साथ साझा किया और उनसे इस मामले में मदद करने का अनुरोध किया है।

बेंच ने कहा कि बैंस के साजिश वाले दावे से न्यायपालिका चिंतित है। बैंस के हलफनामे पर जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा है, “यह न्यायपालिका से संबंधित एक बहुत गंभीर मुद्दा है, अगर ये सच है, तो यह काफी परेशान करने वाला है।” हलफनामे में बैंस ने सीजेआई गोगोई के उस फैसले का जिक्र भी किया है जिसमें उन्होंने दो अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया था।

ये है मामला

सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्व महिला कर्मचारी चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। इस महिला कर्मचारी ने शपथ पत्र देकर सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों को आरोप लगाने वाला यह पत्र भेजा था। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने अपने ऊपर लगे यौन शोषण के आरोप को खारिज करते हुए कहा कि न्यायपालिका खतरे में है। उन्होंने कहा कि वह इन आरोपों का जवाब नहीं देना चाहते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here