रायपुर। रायपुर के एक चर्चित सीडी कांड में करीब डेढ़ माह की खामोशी के बाद मंगलवार को उस वक्त फिर हलचल शुरू हो गई, जब सीबीआई अफसरों दिल्ली से आकर लोगों को बयान के लिए बुलवाया ज्यादा से ज्यादा लोगों से सीबीआई ने एक ही सवाल किया। की क्या प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने सुबह हुई प्रेस कांफ्रेंस में अश्लील सीडी बांटे थे?

माना जा रहा है कि सीबीआई की जांच अब मंत्री मूणत की कथित सीडी बांटने में पीसीसी चीफ भूपेश की भूमिका पर केंद्रित हो रही है। इस सीडी के बारे में यह बात पहले ही सामने आ चुकी है। कि पोन वीडियो के चार क्लिप में मंत्री का चेहरा लगाया गया है।

यह सीडी जांच के लिए चंडीगढ़ फॉरेंसिक लैब भेजी गई थी। जांच रिपोर्ट सीबीआई को मिल गई है, लेकिन इसका खुलासा नहीं किया गया है। इसे लिफाफा बंद हालत में ही सीबीआई मुख्यालय भेज दिया गया है। यही नहीं, पत्रकार विनोद वर्मा के जब्ते मोबाइल की जांच रिपोर्ट भी आ गई है। यह जांच डिलीट हुए डेटा को रिकवर करने के लिए करवाई गई थी।

सीडी कांड की जांच एसआईटी से करवाई गई थी। जांच के बाद पुलिस ने जो केस डायरी तैयार की थी, उसमें भिलाई के फर्नीचर कारोबारी विजय भाटिया, भाजपा नेता कैलाश मुरारका समेत आधा दर्जन नाम हैं। इनमें से किसी को सीबीआई ने अभी बयान के लिए नहीं बुलाया है।

LEAVE A REPLY