नई दिल्ली : अयोध्या में रामजन्मभूमि- बाबरी मस्जिद स्वामित्व विवाद पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट पूरी तरह से तैयार है. सभी काग़जी कार्रवाई और अनुवाद का काम पूरा हो गया है. 8 मार्च को सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार के सामने हुई मीटिंग में सभी पक्षों ने कहा कि काग़जी कार्रवाई और अनुवाद का काम लगभग पूरा हो गया है.

जबकि सुप्रीम कोर्ट बुधवार को इस मामले में मामले की सुनवाई करेगा. अब जब काग़जी कार्रवाई और अनुवाद का काम पूरा हो गया है तो कोर्ट ये तय करेगा कि इस मामले की सुनवाई की आगे की रूपरेखा क्या होगी.

जबकि हाई कोर्ट के आदेश के ख़िलाफ़ सबसे पहले सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, लिहाज़ा पहले बहस करने का मौका उन्हें मिल सकता है. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने काग़जी कार्रवाई और अनुवाद का काम पूरा करने के आदेश दिए थे. आपको बता दें कि इस मामले से जुड़े 9,000 पन्नों के दस्तावेज और 90,000 पन्नों में दर्ज गवाहियां पाली, फारसी, संस्कृत, अरबी सहित विभिन्न भाषाओं में हैं, हालाँकि जिस पर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कोर्ट से इन दस्तावेजों को अनुवाद कराने की मांग की थी.

LEAVE A REPLY