इंडिया का END POINT अरिचलमुनाई, यहीं से आगे नजर आता है रामसेतु

0
57

नई दिल्ली। दुनिया में ऐसी कई जगह है जो अपनी खासियत के कारण फेमस है। कई जगहें अपनी अनोखी बनावट के लिए तो कोई किसी रहस्यमय वजह के कारण मशहूर होती है। भारत का आखिरी सिरा कहा जाने वाला भाग तमिलनाडु के रामेश्वरम से ठीक 23 किमी की दूरी पर है अरिचलमुनाई। यहां पहुंचकर अजीब सी शांति का अनुभव होता है। यहां तक हम जिस रास्ते से होकर पहुंचते हैं कहा जाता है कि वह भी राम सेतू का ही भाग है। यहां पर चारों ओर विशाल समुद्र नजर आता है।

अरिचलमुनाई से श्रीलंका का आइलैंड 20 किमी की दूरी पर ही है। भारतीय सीमा की अंतिम बस्ती धनुषकोड़ी से अरिचलमुनाई की दूरी 4 किमी है। यहां पर समुद्र एक तरफ शांत और एक तरफ क्रोधित सा नजर आता है। अरिचलमुनाई जाने के रास्ते पर बाईं तरफ बंगाल की खाड़ी है तो दायीं तरफ मन्नार की खाड़ी और हिंद महासागर। यहां बंगाल की खाड़ी बिल्कुल शांत नजर आती है लेकिन मन्नार की खाड़ी में तेज लहरें उठती रहती हैं। यहां पर समुद्र के शांत और क्रोेधित होने को रामायण काल से जोड़ा जाता है। 
जब श्रीराम सीता को छुड़ाने के लिए लंका तक रामसेतू बना रहे थे तो उन्होंने समुद्र से रास्ता मांगा पर उसने इंकार कर दिया। तब क्रोध में आकर समुद्र को सुखाने के लिए श्रीराम ने धनुष उठा लिया था। समुद्र ने अपनी गलती मानी और श्रीराम की सेना को रास्ता दिया। तब से एक तरफ का समुद्र शांत है तो दूसरी तरफ लहरों की उथल-पुथल रहती है।