रानी पद्मावती का इतिहास

0
85

राजस्थान:भंसाली की बहुचर्चित फिल्म पद्मावती का ट्रेलर आ चुका है और जल्द ही फिल्म रिलीज होने वाली है। लगातार फिल्म का विरोध भी हो रहा है, क्योंकि मामला भारत के गौरवपूर्ण इतिहास से जुड़ा है। इसलिए कई लोगों को इतिहास से छेड़छाड़ कर उसे शर्मसार करने का भी डर सता रहा है। मगर भारत की संस्कृति और हमारा गौरवान्वित इतिहास सही रूप में हमारी आने वाली पीढ़ी तक पहुंचे।

रावल रतनसिंह मेवाड़ के सिसोदिया वंश के राजा थे जो गुहिल वंश की रावल शाखा से ताल्लुक रखते थे। वे अपनी शाखा के अंतिम शासक थे।रतन सिंह को दिल्ली सल्तनत के शासक अलाउद्दीन ख़िलजी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद उनका साम्राज्य खत्म हो गया था।  रतन सिंह जी का विवाह रानी पद्मिनी से हुआ था। जो अपनी सुंदरता के लिए मशहूर थी। पद्मिनी राजस्थान मालवा क्षेत्र के राजा गंधर्व सेन और रानी चंपावती की अद्वितीय सुंदर पुत्री थी।