सरकार ने बदला फैसला, पुरानी ज्वैलरी बेचने पर अब नहीं देना होगा GST

0
126

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने घर पर रखे सोने के गहने या पुराने सोने की बिक्री को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा है। यानी कि अगर आप घर में रखा पुराना सोना बेचने की सोच रहे हैं, तो घबराएं नहीं, इसे बेचने पर अब जीएसटी नहीं लगेगा। यानि की अब आपको रिवर्स चार्ज नही देना होगा।

पहले3फीसदी जीएसटी का लिया था फैसला

दरअसल बुधवार को जीएसटी मास्‍टर क्‍लास में रेवेन्‍यू सेक्रेटरी ने बताया था कि पुरानी ज्‍वैलरी बेचने पर 3 फीसदी जीएसटी देना होगा। बृहस्‍पतिवार को सरकार

सरकार ने भारी दबाव के बाद यह फैसला वापस ले लिया। फाइनेंस मिनिस्‍ट्री ने बयान जारी कर इस पर सफाई दी और बताया कि पुरानी ज्‍वैलरी बेचने पर कोई टैक्‍स. नहीं देना होगा

ज्‍वैलर को देना होगा टैक्‍स

फाइनेंस मिनिस्‍ट्री ने कहा जीएसटी कानून का सेक्‍शन 9 कहता है कि जब भी कोई अनरजिस्‍टर्ड सप्‍लायर (इस मामले में आम आदमी) किसी रजिस्‍टर्ड व्‍यक्ति रजिस्‍टर्ड व्‍यक्ति (इस मामले में ज्‍वैलर) को ज्‍वैलरी बेचता है, तो आम आदमी को इसके लिए कोई टैक्‍स नहीं देना होगा। ऐसे ट्रांजैक्‍शन में आरसीएम के तहत टैक्‍स रजिस्‍टर्ड व्‍यक्ति के जरिए भरा जाएगा।

आम आदमी को सप्‍लायर नहीं मान सकते

सरकार ने सफाई देते हुए कहा कि भले ही एक आम आदमी पुरानी ज्‍वैलरी बेच रहा है, लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं है कि ये उसका बिजनेस है। इसलिए पुरानी ज्‍वैलरी बेचने वाले आम आदमी को जीएसटी लॉ के मुताबिक सप्‍लायर नहीं माना जा सकता। इसलिए एक इंडीविजुअल की तरफ से पुरानी ज्‍वैलरी ज्‍वैलर को बेचने पर आरसीएम के तहत कोई टैक्‍स नहीं देना होगा और यहां सेक्‍शन 9(4) लागू नहीं होता।