GST- रेडीमेड, चश्मे एव पान,रेस्टोरेंट वालो के लिए वरदान

0
434

कम्पोजीशन सुविधा देने का बेसिक कंसेप्ट यह है की आप टेक्स पेड माल खरीदो और आपका मुनाफा कुछ भी हो हमें उस पेटे 1%/२%/5% टैक्स दे दो. और return क्वार्टरली भरो और विक्रय की राशी भी बिल वाइज मत बताओ क्योकि खरीदने वाले को ITC तो मिलेगा नहीं. कम्पोजीशन उन व्यवसायी को तुरंत लेना चाहिए जिनके माल में लेबर की लागत ४०% से ५०% हो या प्रॉफिट मार्जिन ज्यादा हो.उन्हें भी तुरंत लेना चाहिए जिनकी खरीदी आइटम्स टैक्स फ्री है और बिक्री  टैक्सेबल है जैसे होटल व्यवसायी.

https://tobuz.com/wp-content/uploads/2016/06/358-alpstube.jpgकम्पोजीशन उसे ही मिलेगा जिसका पिछले वर्ष टर्नओवर 75 लाख से कम रहा हो, इंटरस्टेट सेल नहीं कर पाएंगे. बिल में टेक्स अलग से नहीं लगा पाएंगे. एक से ज्यादा व्यापार है तो दोनों व्यापार का टर्नओवर जोड़कर 75 लाख की गणना होगी. बिल के टॉप पर छपवाना पड़ेगा “कम्पोजीशन टैक्सेबल परसन नॉट एलिजिबल तो कलेक्ट टैक्स ऑन सप्लाई” .दुकान के बाहर बोर्ड पर भी “कम्पोजीशन टैक्सेबल परसन” लिखवाना पड़ेगा. प्रदेश के बाहर से खरीदी कर सकता है लेकिन प्रदेश के बाहर बिक्री नहीं कर सकता है. कम्पोजीशन की सुविधा, e-commerce operator के द्वारा माल बेचने पर जिसमे टीडीएस कटता हो या  यदि वह किसी भी exempted गुड्स का व्यापार करता है, नहीं मिलेगी.

जिन लोगो को कम्पोजीशन लेना है उन्हें GST लगने की तारीख से  ३० दिन में इस बारे में निर्णय लेना है और फॉर्म CMP-01 एक पेज का पोर्टल पर अपलोड करना है अब ६० दिन में CMP-03 भरना है जिसमे स्टॉक के बारे में डिटेल देना बड़ी दिक्कत का काम है क्यों की कम्पोजीशन की कंडीशन है की आप जो भी माल खरीदोगे वह टैक्स पेड ही होना चाहिए. अब आप कम्पोजीशन लेने जा रहे हो और आपके पास पुराना स्टॉक है जिसमे थोडा माल टैक्स पेड है और थोडा माल अन रजिस्टर्ड से ख़रीदा हुआ है दिक्कत अन रजिस्टर्ड माल के केस में दिख रही है क्योकि फॉर्म में आपको किस अन रजिस्टर्ड डीलर से माल लिया है उसका नाम, पता, बिल की तारीख भी भरना है ये डिटेल किसी व्यापारी के पास होना संभव नहीं है और इस पर लागु टैक्स जो की अभी अनपेड है CMP-०३ के साथ चालान PMT-06 में भरना है. यदि आपके माल में इंटरस्टेट या इम्पोर्ट या इंटरस्टेट स्टॉक ट्रान्सफर, खरीद किया हुआ माल है तो आपको कम्पोजीशन नहीं मिलेगा. यह ध्यान रहे की कम्पोजीशन लेने में कोई भी टैक्स एडवांस नहीं भरना है एक बार कम्पोजीशन का आप्शन लेने के बाद आपको टैक्स की राशी return के साथ क्वार्टर वाइज एक्चुअल विक्रय पर ही भरना है पहले से आपको ये भी बताने की जरुरत नहीं है की मेरा विक्रय कितना होगा. हा यदि आप कोई माल अन रजिस्टर्ड व्यक्ति से खरीदते हो तो आपको रिवर्स चार्ज के अंतर्गत टेक्स भरना ही है यह टेक्स 1%/२%/5% जो भी लागु हो उसके अलावा रहेगा. कम्पोजीशन ट्रेडर और उत्पादक को मिलेगा  सर्विस सेक्टर को नहीं मिलेगा मतलब कांट्रेक्टर को अब कम्पोजीशन की सुविधा नहीं है. लेकिन सर्विस सेक्टर में रेस्टोरेंट को कम्पोजीशन की सुविधा 5% टेक्स भरने पर दी है जो की एक वरदान है कैसे जाने
http://shreebankebiharisevasansthan.weebly.com/uploads/5/7/5/7/57577633/9704955_orig.jpgयदि कम्पोजीशन रेस्टोरेंट वाला नहीं लेता है तो उसे टेक्स १२% (यदि नॉन ऐ.सी.) नहीं तो १८% टेक्स भरना है सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की रेस्टोरेंट की खरीदी में ज्यादतर आइटम्स टेक्स फ्री है तो उसे ITC तो कुछ ही आइटम्स पर लेना है लेकिन टेक्स ज्यादा भरना है मतलब मार्जिन भी ज्यादा है और इस प्रकार उसे १२%/१८% पूरा टेक्स भरना पड़ेगा क्योकि उसकी कास्टिंग बहुत कम रहती है इसलिए रेस्टोरेंट वाले यदि कम्पोजीशन लेता है तो मेरी राय में करीब उसे १३% कम टेक्स लगेगा जिससे वह छोटे ग्राहकों को दुसरे के कैम्परिसन में कम भाव में माल बेच सकेगा. तुरंत कम्पोजीशन लेवे. चश्मे वाले, रेडीमेड मेनुफक्चरिंग वाले जिनकी आइटम १००० से ऊपर की है बड़े पान वाले
निम्न उत्पादक को कम्पोजीशन नहीं मिलेगा जैसे आइसक्रीम, बर्फ, तम्बाखू ,पान मसालावालो को. लेकिन इनके ट्रेडर को मिलेगा.

वर्ष के बिच में कम्पोजीशन नहीं मिलेगा. हा यदि वर्ष के बिच में नया  रजिस्ट्रेशन कराया तो कम्पोजीशन वर्ष के बिच में भी मिलेगा.  पिछले साल टर्नओवर 75 से कम होना चाहिए. वर्ष के बिच में टर्नओवर 75 लाख से ज्यादा हो जाता है तो ७ दिन cmp-04 में सुचना देना है और बाद के return नार्मल तरीके से भरे जायेंगे.और उसे उस दिन के स्टॉक पर ITC मिल जायेगा.
ध्यान रहे आपसे खरीदनेवाले को ITC नहीं मिलेगा इसलिए आपसे कोई भी रेसेलर माल नहीं लेगा. सिर्फ फाइनल कंसुमर को ही बेचनेवाले के लिए फादेमंद.CA Bharat Neema
9827539432 (कोई समस्या हो तो whastapp,ईमेल करके या  फ़ोन करके पूछ सकते है )