GST में कुछ परिस्थितियों को छोड़कर refund नहीं मिलेगा

0
518

मध्यप्रदेश। GST के अंन्तर्गत दो तरह के रिफंड हो सकते है । पहला वह रिफंड जो हमने नगदी भरा है जो की इलेक्ट्रॉनिक केश लेजर में जमा किया है इसमें से कोई भी रिफंड ले सकता है क्योंकी ये अमाउंट आपने ही नगदी भरा है इसका रिफंड रेगुलर return के अंतर्गत ही मिल जायेगा।

दूसरा रिफंड वह है जो आपको इलेक्ट्रॉनिक क्रेडिट लेजर में से लेना है ये क्रेडिट जो आपने मॉल ख़रीदा था उस पर जो टैक्स आपने बेचवाल को दिया था जिसे हम इनपुट टैक्स क्रेडिट कहते है और जो हमने बेचा है उस पर जो टैक्स लायबिलिटी आई है उसके अंतर का जो बैलेंस बचता है उसका रिफंड का क्या होगा।

इसमें से रिफंड सम्मान्यातया नहीं मिलेगा सिर्फ एक्सपोर्टर,sez को सर्विस और गुड्स दोनों के लिए, डीम्ड एक्सपोर्ट को केवल गुड्स के लिए UNI को उसे जिनका खरीदी पर टैक्स ज्यादा है और बेचने पर टैक्स रेट कम है

उनको रिफंड नहीं मिलेगा और कुछ परिस्थिति में जैसे रिफंड क्लेम किया और ऑफिसर ने गलत मानकर रिफंड नहीं दिया तो यह फण्ड कंसुमर वेलफेयर फण्ड में ट्रान्सफर हो जायेगा मतलब व्यापारी का क्रेडिट डूब जायेगा व्यापारी को सुनवाई का मौका मिलेगा।

अब अन यूटीलीसड इनपुट टैक्स क्रेडिट का रिफंड नहीं मिलेगा निम्न को छोड़कर लेकिन इसकी कुछ कंडीशन है जिसमे रिफंड मिलेगा जैसे व्यक्ति ने जीरो रेटेड गुड्स(नाट एक्सेम्प्ट मतलब जो गुड्स ‘नील” रेट में बेचते है उन्हें रिफंड ITC का नहीं मिलेगा , मतलब डूब जायेगा ) सप्लाई किया है मतलब एक्सपोर्ट किया है  बगेर टैक्स पेमेंट के, तो नहीं माँगा जा सकता है।

जहा क्रेडिट इसलिए खड़ी या जमा हो गयी है क्योकि रॉ मटेरियल ख़रीदा था तो टैक्स ज्यादा था (मान लो १८%) और बेचने पर (मान लो 5%) लगता है इसे इनवर्टेड टैक्स स्ट्रक्चर कहते है लेकिन इसमें यदि सप्लाई ‘नील रेट“(जो की एक्सेम्पट सप्लाई की परिभाषा में है ) को शामिल नहीं किया है मतलब जिनका विक्रय “नील’ रेट पर है उसे रिफंड नहीं मिलेगा. मतलब उन्हें रिफंड मिल जायेगा जिनका सप्लाई पर किसी भी रेट से टैक्स लगता है

CA Bharat Neema
9827539432 (कोई समस्या हो तो whastapp, ईमेल करके या फ़ोन करके पूछ सकते है )